प्रधानी चुनाव को लेकर दो पक्ष आपस मे भिड़े, एसडीएम ने दोनों पक्ष के 11 लोगों को भेजा जेल

भेलसर(अयोध्या) अब्दुल जब्बार एडवोकेट व अनिल कुमार मिश्रा की रिपोर्ट, रुदौली तहसील के कोपेपुर गांव में शुक्रवार की रात प्रधान पद के दो पक्षों की आमने सामने आ जाने से जमकर मारपीट व लाठियां चली।दोनों पक्षों के लोग पुलिस के आने तक गांव में घूम घूम कर बवाल काटते रहे।थाना पटरंगा पुलिस ने दोनों पक्ष के 11 लोगों का शांति भंग की आशंका में चालान किया है।उप जिलाधिकारी ने शांति भंग की आशंका में धारा 151 में आए सभी आरोपियों को जेल भेज दिया।

ALSO READ :   बड़ा फैसला: यूपी में धार्मिक स्थलों पर पांच लोगों से अधिक के प्रवेश पर बैन, जानें और क्या है निर्देश





मालूम हो कि थाना पटरंगा क्षेत्र के संवेदनशील प्लस की श्रेणी के ग्राम कोपेपुर में बीते 15 साल पहले प्रधानी के चुनाव की रंजिश को लेकर गोली भी चली थी।जिसमें कई लोग महीनों जेल में रहे थे।6 अप्रैल 2021 को तहसील रुदौली क्षेत्र के संवेदनशील और अतिसंवेदनशील गांव का भ्रमण करने निकले जिलाधिकारी अनुज कुमार झा और एसएसपी शैलेश पांडे ने कोपेपुर में ग्रामीणों के साथ बैठकर चुनाव में शांति बनाए रखने की अपील की थी और प्रधान पद के प्रत्याशियों से शांति व्यवस्था स्थापित करने के लिए सहयोग मांगा था।शुक्रवार की रात 9:00 बजे प्रधान पद के प्रत्याशी मोहम्मद शमीम उर्फ पुत्तन आपने भाई मोहम्मद अलीम व मोहम्मद कलीम और एक दर्जन साथियों के साथ चुनाव प्रचार के लिए निकले थे।तभी जंगल वाले रास्ते पर निवर्तमान प्रधान के पुत्र बबलू खान अपने चार पांच साथियों के साथ जा रहे थे। नारेबाजी से शुरू हुई कहासुनी देखते ही देखते मारपीट में बदल गई।
ALSO READ :   तब्लिगी जमात केस में कोर्ट ने कहा- कोई भी खास जुर्म बताने में फेल रहे डीसीपी





ग्रामीणों के मुताबिक मो0 शमीम उर्फ पुत्तन के साथियों ने लाठियों से निवर्तमान प्रधान के प्रधान पद प्रत्याशी बबलू खान के लोगों की पिटाई शुरू कर दी। इस दौरान गांव में अराजकता की स्थिति पैदा हो गई।लोग गांव की गलियों में एक दूसरे पक्ष के लोगों को मारने के लिए दौड़ाने लगे।सूचना मिलने पर पटरंगा थाना की पुलिस पहुंची।पुलिस ने दोनों पक्षों के कुल 11 लोगों को अपनी हिरासत में लिया। जिनमें से प्रधान पद प्रत्याशी मोहम्मद शमीम उर्फ पुत्तन उनके भाई मोहम्मद कलीम,मोहम्मद लइक,समर्थक मोहम्मद इश्तियाक और साजिद खान दूसरे पक्ष के प्रधान पद प्रत्याशी सिराज अहमद उर्फ बबलू,नसीम,इश्तियाक अहमद,मोहम्मद आसिफ,मोहम्मद महबूब,अमानुल्लाह को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। क्षेत्राधिकारी राकेश श्रीवास्तव ने बताया की चुनावी रंजिश में हुई कहासुनी को लेकर दोनों पक्षों ने एक दूसरे के विरुद्ध धारा 147,323,504,506 के तहत मुकदमा दर्ज कराया है दोनों पक्षों का चालान शांति भंग की आशंका में धारा 151 में एसडीएम के न्यायालय पर किया गया है।उपजिलाधिकारी विपिन सिंह ने बताया शांति भंग की आशंका में ग्राम कोपेपुर के 11 लोगों को जेल भेजा गया है।




जिलाधिकारी व एसएसपी के दौरे के बाद भी संवेदनशील प्लस गाव की कसीदगी कम नही हो रही

पंचायत चुनाव में शांति व्यवस्था बनाए रखने के प्रशासनिक प्रयास प्रधान पद हासिल करने में लगे लोग के लिए कोई मायने नहीं रखते।जिलाधिकारी एसएसपी के दौरे के बाद संवेदनशील प्लस गाव की कसीदगी कम नही हो रही है।अधिकारियों की हिदायत का प्रत्याशियों पर कोई असर नहीं है।एक दूसरे पर छींटाकशी और देख लेने के कई मामले गांव में घट रहे हैं।6 अप्रैल को थाना पटरंगा क्षेत्र के ग्राम कोपेपुर में जिलाधिकारी अनुज झा व एसएसपी शैलेश पांडे,एसडीएम विपिन सिंह,सीओ राकेश श्रीवास्तव ने प्रधान प्रत्याशियों के साथ बैठक की और पंचायत चुनाव में शांति व्यवस्था बनाए रखने की हिदायत दी।इस गांव में प्रधानी के चुनाव से पहले प्रधान पद के प्रत्याशियों के दो पक्षों के 2005 में गोलीबारी हो चुकी है।जिलाधिकारी ने गांव में चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न कराने की अपील की।9 अप्रैल की रात प्रधान पद के दो पक्षों के बीच हुई मारपीट चली लाठियां इसकी बानगी भर हैं।