ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन का ट्रायल रुका, भारत के लिए बड़ा झटका!

कोरोना वायरस के मामले में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन से सबसे ज्यादा उम्मीद थी. ट्रायल के दौरान इसके शुरुआती नतीजे भी उत्साहजनक थे. लेकिन अचानक से इस वैक्सीन के ट्रायल को रोक दिया गया है. ऐसा ट्रायल के दौरान एक व्यक्ति की तबीयत खराब होने की वजह से हुआ. इस वैक्सीन से भारत को भी उम्मीद थी और इसके उत्पादन को लेकर करार भी हो गया था. जब पूरी दुनिया में कोरोना थमता दिख रहा है तो भारत में पिछले कुछ हफ्तों से हर दिन 80 हजार के करीब नए मामले सामने आ रहे हैं. ऐसे में इस वैक्सीन का ट्रायल रुकना भारत के लिए किसी झटके से कम नहीं है.




अमेरिका, ब्रिटेन समेत कई देशों में ट्रायल को रोक दिया गया है. ट्रायल रोकने की खबर मिलते ही दुनिया भर के लोग निराश हो गए हैं.

इस वैक्सीन का ट्रायल भारत में भी हो रहा था लेकिन यहां फिलहाल ट्रायल नहीं रोका गया है. भारत की सीरम इंस्टीट्यूट कंपनी ने ऑक्सफोर्ड वैक्सीन का बड़े पैमाने पर उत्पादन करने के लिए एस्ट्राजेनेका के साथ करार किया था. सीरम इंस्टिट्यूट ने भारत के साथ-साथ कई और देशों को भी वैक्सीन उपलब्ध कराने की बात कही थी.




ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन अगर असफल रहती है तो भारत की परेशानी बढ़ सकती है. हालांकि, सीरम इंस्टीट्यूट के CEO अदर पूनावाला ने कहा है कि इतनी जल्दी निराश होने की जरूरत नहीं है. उन्होंने बिजनेस टुडे को बताया, ‘भारत में फिलहाल ऑक्सफोर्ड वैक्सीन का ट्रायल नहीं रोका गया है और इसके बारे में चिंता करने की कोई बात नहीं है. ट्रायल रोकने का निर्णय ब्रिटेन में एक मरीज की तबीयत खराब होने के बाद लिया गया है. उस मरीज में न्यूरो संबंधित कुछ समस्या दिखी है. इन सब पर हमें एस्ट्राजेनेका के जवाब का इंतजार करना चाहिए. जो कुछ भी हुआ है, उसका वैक्सीन से कुछ लेना-देना नहीं है.’




अदर पूनावाला ने कहा, ‘भारत में भी इस वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है और इसे रोका नहीं गया है.’

ALSO READ :   हाईकोर्ट ने अर्नब गोस्वामी को लगाई फटकार, कहा भाषा में संयम बरतें, प्रेस किसी को दोषी करार नहीं दे सकता

ब्रिटिश कंपनी एस्ट्राजेनेका ऑक्सफोर्ड के साथ मिलकर ये वैक्सीन बना रही है. क्लिनिकल ट्रायल में एक वॉलंटियर पर वैक्सीन के गंभीर साइडइफेक्ट दिखने के बाद इसकी जांच की जा रही है.

न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, वॉलंटियर के स्पाइनल कॉर्ड में सूजन पाई गई है जो आम तौर पर वायरल इंफेक्शन की वजह से होता है. ये अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है कि ये वैक्सीन के सीधे प्रभाव की वजह से हुआ है या अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्या की वजह से हुआ है.