इमामबाड़ा गर्ल्स पिजि कॉलेज की प्रिंसिपल को जान से मारने की धमकी , धन उगाही को रोकने की मिल रही सजा – डॉ आसिया जमाल

गोरखपुर। महानगर के प्रतिष्ठित और एक मात्र महिला अल्पसंख्यक महविद्यालय जा शाह इमामबाड़ा गर्ल्स पी जी कालेज गोरखपुर की कार्यवाहक प्राचार्य डॉ आशिया जमाल ने प्रबंध समिति पर जान माल का खतरा और विद्यालय में घोटाले का आरोप लगाया है।गोरखपुर जनरल इस प्रेस क्लब में प्रेस वार्ता के माध्यम से उन्होंने बताया कि मैं इस महाविद्यालय में लगभग 50 वर्षों से कार्यरत हूँ और पिछले वर्ष 2013 में भी मैं इस महाविद्यालय के प्राचार्या पद का निर्वहन कर चूकि हूँ और पिछले 26.08.2018 से निरन्तर का ० प्राचार्या पद पर कार्यरत हूँ ।




ALSO READ :   उत्तर प्रदेश में NSA का जमकर गलत इस्तेमाल! 120 में 94 मामले हाईकोर्ट ने किए रद्द

इस दौरान महाविद्यालय में मेरे संरक्षण एवं देख – रेख से शिक्षा के क्षेत्र गुणात्मक सुधार सहित अनेक कार्य सफलतापूर्वक सम्पादित होते रहे हैं। विगत कुछ माह से प्रबंधकतंत्र द्वारा अनावश्यक अनर्गल और अपने कुछ खास लोगों के परिवार जनों को गैर कानूनी ढंग से तृतीय श्रेणी के पद पर तमाम गैर कानूनी ढंग से एवं महाविद्यालय के मानक के विपरीत स्थापित कराने एवं वित्तीय लाभ पहुंचाने के लिए मेरे ऊपर दबाव बनाया जाता रहा है।

जब विश्वविद्यालय द्वारा इस संबंध में मुझसे जाँच – पड़ताल की गयी तो ऐसे गैर कानूनी ढंग से महाविद्यालय द्वारा शासन से प्राप्त धन का दुरूपयोग करने का अविलम्ब सुझाव देते हुए इस अनियमितता को तुरन्त रोकने का सुझाव दिया। जिसपर मैंने अविलम्ब रोक लगाते हुए इन दोनों कथित लोगों को हटाकर उन दोनों को दिये जाने वाले धन पर रोक लगा दिया। इस सम्बन्ध में गोविविगो के कुल सचिव, क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी गोरखपुर एवं महानिदेशक उच्च शिक्षा प्रयागराज को सूचित कर दिया ।




इसी गैरकानूनी कार्य एवं एकमात्र महिला अल्पसंख्यक महाविद्यालय के धन के दुरूपयोग को रोकने और महाविद्यालय की शाख को बरकरार रखने के लिए, जो साहसिक कदम मैंने उठाया उसे लेकर महाविद्यालय के० प्रबन्धतंत्र का काकस तरह – तरह की अनैतिक कार्यों को जारी रखने का दबाव बनाया और ऐसा न करने पर इस पद से हटाये जाने की धमकी भी दी जा रही है जिसका वायस् रिकार्डिंग भी उपलब्ध है। मैने जिस प्रकार निष्ठा पद की गरिमा और महाविद्यालय के छात्राओं के विकास तथा गुणात्मक शिक्षा दिलाये जाने के लिये जो भी प्रयास किये है उसे लेकर निश्चित तौर पर कुछ विशेष लोग कुंठित और व्यथित है। मुझे जान से मारने और सबक सिखाने की भी धमकियाँ दी जा रही है ।


ALSO READ :   असम चुनाव घपला : वोटर लिस्ट में 90 थे नाम EVM में पड़ गए 181, पांच निलंबित दोबारा होगी वोटिंग

इस सम्बन्ध में मैंने जिन दो लोगों को हटाया है उनमें से एक श्रीमती अरीना बेग जिनके पति श्री मंजूर आलम जो अपराधिक प्रवृति के व्यक्ति है और जान से मारने की धमकी भी दी है एवं प्रबंधतंत्र समिति के दबंग सदस्य है , यदि मुझ पर या मेरे पति पर भविष्य में किसी भी तरह का हमला या हादसा होता है , तो उसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी मंजूर आलम की होगी । अब मैं इस संबंध में माननीय कुलाधिपति ( राज्यपाल ) कुलपति , कुल सचिव क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी गोरखपुर एवं निदेशक उच्च शिक्षा प्रयागराज को सूचित कर न्याय की गुहार लगाने जा रही हूँ। मेरा यह दृढ़ निश्चय है कि इस नगर के एक मात्र महिला अल्पसंख्यक महाविद्यालय के गौरव, सम्मान एवं सुचिता को बचा पाने में अन्तिम समय तक कोई कोर, कसर नहीं छोडूगी ।

बाइट, डॉ आसिया जमाल , कार्यवाहक प्राचार्य