Corona Vaccine in India: कोविशील्ड की 5.6 करोड़ डोज फरवरी में भेजेंगे, प्राइवेट मार्केट में 1000 रुपये होगी कीमत- पूनावाला

Covid Vaccination in India: कोरोना वायरस को मात देने के लिए पूरी दुनिया वैक्‍सीन (Corona Vaccine)के निर्माण के लिए भारत की ओर उम्‍मीद भरी नजरों से देख रही है. भारत में 16 जनवरी से वैक्सीनेशन शुरू होने जा रहा है. इसके लिए सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute) ने मंगलवार को कोविशील्‍ड (Covishield vaccine) की 56.5 लाख डोज की पहली खेप की डिलीवरी कर दी है. सीरम के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) ने फरवरी में कोविशील्ड की 5.6 करोड़ डोज की डिलीवरी होगी. वहीं, प्राइवेट मार्केट में वैक्सीन की कीमत 1000 रुपये रखी गई है.




सीरम इंस्‍टीट्यूट के सीईओ पूनावाला ने कहा, ‘कई देशों ने अपने नागरिकों के लिए भारत से वैक्‍सीन खरीदने को लेकर सीरम और प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) को वैक्‍सीन खरीदने के लिए चिट्ठी लिखी है.’ उन्‍होंने कहा कि सीरम इंस्‍टीट्यूट ने सरकार को विशेष रेट की पेशकश की है, जो कि हमारी लागत से थोड़ा कम है, क्‍योंकि इसने देश के लोगों की रक्षा और उनकी मदद करने को मान्‍यता दी है.

ALSO READ :   कोर्ट के फैसले से सहमत नहीं किसान, टिकैत बोले- कानून बनाने वाले लोग ही कमेटी में

फरवरी तक भेजेंगे सरकार का बाकी का ऑर्डर
पूनावाला ने कहा, ‘सीरम की पहली प्राथमिकता भारत सरकार है. सरकार ने 1.1 करोड़ कोविशील्‍ड का ऑर्डर दिया है. 56.5 लाख डोज की डिलीवरी हो चुकी है. सरकार का शेष ऑर्डर 5.6 करोड़ डोज फरवरी तक सप्‍लाई कर दिया जाएगा.’ उन्होंने कहा, ‘सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) में हर माह सात से आठ करोड़ डोज का उत्‍पादन किया जा सकता है. एसआईआई वैक्सीन की डोज का समान वितरण सुनिश्चित करना चाहती है.’




प्राइवेट मार्केट में वैक्सीन की एक डोज की कीमत 1000 रुपये
अदार पूनावाला ने कहा, ‘हम आम आदमी, कमजोर, गरीब और हेल्‍थकेयर वर्कर की मदद करना चाहते हैं. इसलिए हमने भारत सरकार के आग्रह पर पहले एक करोड़ डोज के लिए 200 रुपये की विशेष कीमत तय की है. शेष 5.6 करोड़ डोज के लिए भी हमने उचित कीमत रखी है. यह 200 रुपये से कुछ अधिक होगी जो हमारा लागत मूल्‍य है. इसके बाद हम प्राइवेट मार्केट में इसे 1000 रुपये प्रति डोज की कीमत से बेचेंगे.’

कई देशों के साथ है सीरम के करार
अदार पूनावाला ने बताया, ‘हमारे कई देशों के साथ करार हैं-सऊदी अरब, ब्राजील, बांग्‍लादेश और अफ्रीकी देश. ये देश भारत की ओर उम्‍मीद से देख रहे हैं, क्‍योंकि हमारे पास बड़ी उत्‍पादन सुविधाएं हैं. दुनिया की छोटी कंपनियां अभी समुचित संख्‍या में कोरोना डोज का निर्माण करने की स्थिति में नहीं हैं.’




उन्होंने कहा, ‘भारत ने फिलहाल कोरोना वैक्‍सीन के निर्यात पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाया है, लेकिन ब्राजील की ओर से कोविशील्‍ड की दो मिलियन डोज की मांग के दबाव के बावजूद इसके लिए अभी मंजूरी नहीं दी है.’ (PTI इनपुट के साथ)