जानिए कैसा है वो परिवार जहां बहू बनकर जा रही हैं ओवैसी की बेटी

हैदराबाद के दो बड़े सियासी परिवार जल्द ही शादी के रिश्ते में बंधकर एक होने जा रहे हैं। दरअसल, शाह आलम खान के पोते नवाब बरकत आलम खान के साथ असदुद्दीन ओवैसी की बेटी कुदसिया ओवैसी की शादी 28 दिसंबर को होनी है। ऐसे में हर कोई उस परिवार के बारे में जानना चाहता है जहां बहू बनकर ओवैसी की बेटी जाने वाली हैं। तो आइए जानते हैं आखिर कैसा होगा ओवैसी की बेटी का ससुराल।

आलम खान और ओवैसी परिवार पहले से एक दूसरे को जानते हैं। दोनों परिवारों के बीच कई पीढ़ियों से दोस्ती है, लेकिन इस शादी के साथ हैदराबाद के इन दो सियासी परिवारों के बीच एक नए अध्याय की शुरुआत होगी। माना जा रहा है कि इस शादी के पीछे दोनों परिवारों के सियासी फायदे छिपे हुए हैं।





नवाब शाह आलम खान का नाम हैदराबाद में काफी मशहूर है। ओवैसी के होने वाले समधी के परिवार को लोग उनके द्वारा किए परोपकार के लिए मानते हैं। आलम खान ने अल्पसंख्यकों के शैक्षणिक उत्थान की दिशा में काफी काम किया है। हैदराबाद डेक्कन सिगरेट फैक्ट्री की गोलकोंडा सिगरेट हैदराबाद का एक जाना माना ब्रैंड रहा है।

ALSO READ :   "भगवान से मेरी सेटिंग, मुझे तब तक मौत नहीं आएगी जब तक मैं..." किसान महापंचायत में केंद्र पर बरसे केजरीवाल

डेक्कन सिगरेट फैक्ट्री शाह आलम ही चलाते हैं। इसके अलावा आलम खान कई सारे शैक्षणिक संस्थान भी चलाते हैं, जिसमें अनवरुल उलूम कॉलेज काफी मशहूर रहा है।




बता दें कि बरकत, नवाब अहमद आलम खान के बेटे और नवाब शाह आलम के पोते हैं। बरकत ने पोस्ट ग्रैजुएट किया है और वह अपने परिवार का ही बिजनेस संभालते हैं। खास बात यह है कि यह परिवार हैदराबाद की पाक कला के लिए भी जाना जाता है।शाह आलम खान के बड़े बेटे और बरकत के चाचा नवाब महबूब आलम खान को खाना बनाने के मामले में मास्टर शेफ कहा जाता है। उन्हें हैदराबाद से लगभग खो चुके, कुतुब शाही और असफ शाही व्यंजनों को पुनर्जीवित करने का श्रेय भी दिया जाता है।

ALSO READ :   महाराष्ट्र में लगभग लॉकडाउन जैसी पाबंदियां; जानें क्या खुलेगा और क्या बंद

Nawab Shah Alam Khan- फोटो : file photo