लॉकडाउन के बाद पहले समाधान दिवस में लेखपालों पर गिरी गाज

अयोध्या। लाकडाउन के बाद मंगलवार को शुरू हुए पहले तहसील दिवस में भीड़ उमड़ी। कोरोना से बचाव के बीच जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने बीकापुर तहसील में लोगों की समस्याएं सुनीं। अनुचित लाभ के लिए वरासत करने के आरोपी लेखपाल को सस्पेंड कर दिया। एक अन्य लेखपाल वेतन रोकने और दूसरे का के खिलाफ विधिसम्मत कार्रवाई का निर्देश दिया। दिवस में कुल 466 शिकायतें आई, इनमें से 14 का निस्तारण मौके पर कराया गया।




बीकापुर प्रतिनिधि के मुताबिक समाधान दिवस का आयोजन तहसील परिसर के मैदान में टेंट लगाकर किया गया। सोशल डिस्टेंसिंग के साथ लोगों की शिकायतें सुनी गई। मलेथू कनक निवासी पुष्कर मिश्रा की शिकायत कि उनके बाबा का एक जून 2020 को निधन हो गया है। उनके पिता का भी निधन 19 अगस्त 2020 को हो गया है। वरासत के लिए हल्का लेखपाल ने 3000 रुपये की डिमांड की।

ALSO READ :   अयोध्या : जिला अस्पताल के सर्जन समेत 97 हुए संक्रमित

आशंका जताई कि लेखपाल उनके ताऊ से मिलकर तहसीलदार न्यायालय में धारा 34 में मामला विचाराधीन करवा दिया है। उनके ताऊ से ग्राम पंचायत विकास अधिकारी को भी परिवार रजिस्टर से बेदखल करने के लिए शपथ पत्र दिया गया है। डीएम ने हल्का लेखपाल विकास यादव को निलंबित करने का निर्देश दिया। कार्रवाई के लिए एसडीएम से कहा।




मुकीमपुर पहाड़पुर निवासी मनोराम की शिकायत ग्राम पंचायत में तालाब संख्या 3999 क के पट्टे पर 2016 से कब्जा न हटाए जाने की। जिलाधिकारी ने हल्का लेखपाल भीम सिंह को कड़ी फटकार लगाने के साथ वेतन रोके का निर्देश दिया।

ढेमा वैश्य गांव निवासी शिव प्रताप की शिकायत थी कि डीडीसी चकबंदी में 1985 से चल रहे मुकदमे अब तक आदेश नहीं हो पाया। डीएम ने डीडीसी को तलब किया लेकिन वह अनुपस्थित मिले। इस पर वेतन रोकने का निर्देश दिया। बनकट निवासी मंजू, रघुराजी, विद्यावती, केसपति की शिकायत थी कि कोटेदार से खाद्यान्न वितरण में अधिक पैसा लिया जाता है, घटतौली की जाती है। विरोध पर उनका राशन कार्ड कटवा दिया जाता है।

ALSO READ :   100 रुपये हुए टमाटर के दाम! क्यों एक महीने में दोगुने हुए आलू-प्याज समेत कई सब्जियों के दाम

डीएम ने सहायक पूर्ति निरीक्षक प्रदीप तिवारी को जांच कर कार्रवाई का निर्देश दिया। असरेवा गांव में स्थित विवादित रही करीब 12 बीघा सार्वजनिक सरकारी भूमि पर तालाब खुदवाने का निर्देश दिया। जिसे एक व्यक्ति द्वारा अपनी खतौनी में शामिल करवा लिया गया था। लेकिन बाद में खतौनी से तालाब के खाते में भूमि वापस आई है।




नगर पंचायत क्षेत्र के तेंदुआ माफी निवासी पुष्पेंद्र पांडे की शिकायत पर बंजर भूमि से अतिक्रमण हटवाने का निर्देश अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत रागनी वर्मा और कोतवाल को दिया। डीएम, एसएसपी ने फरियादियों के लिए बनाए गए थर्मल स्क्रीनिंग स्थल का निरीक्षण किया। दिवस में कुल 195 शिकायतें आई जिसमें सात शिकायतों का निस्तारण मौके पर ही कर दिया गया।

ALSO READ :   मोदी सरकार ने पार की बेशर्मी हदें, संसद में कहा- नहीं है प्रवासी मजदूरों के मौत का आंकड़ा, न ही कोई मुआवजा देंगे

शिकायतों को प्राथमिकता के आधार पर गुणवत्ता पूर्वक निस्तारण का निर्देश दिया। दिवस में एसएसपी दीपक कुमार, कार्यवाहक सीएमओ सीबी द्विवेदी, अधिशासी अभियंता रोहित कुमार, डीसीओ एपी सिंह, एसडीएम दिग्विजय प्रताप सिंह, तहसीलदार मनोज कुमार सिंह, सीओ विजय कुमार, खंड विकास अधिकारी स्वप्निल यादव, नगर पंचायत की अधिशासी अधिकारी रागिनी वर्मा सहित अन्य विभागों के अधिकारी और कर्मचारी मौजूद रहे।




सोहावल प्रतिनिधि के मुताबिक, यहां समस्या लेकर आने वालों की संख्या कम रही। पंजीकरण के लिए पांच टेबुल लगाई गई। सभागार से हटकर खुले बरामदे में सुनवाई हुई और सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क लगाकर आना अनिवार्य किया गया था। इससे भीड़ का स्वरूप कहीं नजर नही आया। यहां कुल 65 मामले सामने आए मौके पर निस्तारण किसी का नही हो सका।

मिल्कीपुर प्रतिनिधि के मुताबिक, समाधान दिवस में कुल 73 मामले आए। जिसमें से दो मामलों का निस्तारण हो पाया। सबसे अधिक समस्याएं पुलिस और राजस्व विभाग से आई थी। इसके अलावां पेशन से संबंधित शिकायतें भी पहुंची।

ALSO READ :   मुस्लिम धर्मगुरु ने PM मोदी को लिखा पत्र, बोले- चीन से युद्ध में हमारी कौम प्राणों की आहुति देने को तैयार

तहसील दिवस में दसौली के रामजस ने चक की निशानदेही कराने की मांग की। शिकायतकर्ता नंदकुमार निवासी सतनापुर आवासीय पट्टा के पैमाइश की मांग की। वही वासुदेव निवासी इनायतनगर ने अंतोदय कार्ड बनाए जाने की। माना देबी निवासी रनापुर की शिकायत थी कि विपक्षी राम बहादुर सिंह ने घर के सामने जबरन कब्जा कर लिया है। एडीएम ने समस्याओं को सुनते हुए संबंधित अधिकारियों को समस्याओं के निस्तारण के निर्देश दिए।




सदर तहसील में आयोजित समाधान दिवस में एसडीएम सदर ज्योति सिंह, एसपी सिटी ने लोगों की समस्याएं सुनी। यहा विधायक वेद प्रकाश गुप्त भी मौजूद थे। बताया गया है कि दिवस में कुल 53 मामले आए। इनमें से दो का निस्तारण किया गया।

रूदौली प्रतिनिधि के मुताबिक, एडीएम प्रशासन संतोष कुमार की अध्यक्षता में आयोजित तहसील दिवस में कुल 80 शिकायतें आई इनमें पांच का मौके पर ही निस्तारण कर दिया गया।